ad

गधा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गधा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 28 अप्रैल 2010

असली हिन्दुस्तान तो यहीं इस ब्लागजगत में बस रहा है.......

कितना अद्भुत है ये हिन्दी ब्लागजगत! जैसे ईश्वर नें सृ्ष्टि रचना के समय भान्ती भान्ती के जीवों को उत्पन किया, सब के सब सूरत, स्वभाव और व्यवहार में एक दूसरे से बिल्कुल अलग। ठीक वैसे ही इस ब्लाग संसार में भी हजारों लोग दिन रात अलग अलग मसलों पर लिखे जा रहे हैं----लेकिन क्या मजाल कि वे किसी एक भी बात पर कभी एकमत हो सकें। सब एक दूसरे से निराले और अजीब। ये वो जगह हैं जहाँ आपको हरेक वैराईटी का जीव मिलेगा। यहाँ आपको आँख के अन्धे से अक्ल के अन्धे तक हर तरह के इन्सान के दर्शन होंगें। मैं तो कहता हूँ कि सही मायनों में यहीं असली हिन्दुस्तान बस रहा है। ऊपर वाले नें अपनी फैक्ट्री में मनुष्य जाति के जितने भी माडल तैयार किए होंगें, उन सब के नमूने आपको यहाँ देखने को मिल जाएंगें। जहाँ के पुरूष औरतों की तरह लडें, जहाँ के बूढे बुजुर्ग बात बात में बच्चों की तरह ठुसकने लगें, जहाँ एक से बढकर एक भाँड, जमूरे, नौटंकीबाज आपका मनोरंजन करने को तैयार बैठे हों, जहाँ मूर्ख विद्वानों को मात दें और जहाँ लम्पट देवताओं की तरह सिँहासनारूढ होकर भी ईर्ष्या और द्वेष में पारंगत हों,  तो बताईये भला आप इनमें दिलचस्पी लेंगें या घर में बीवी बच्चों के साथ बैठकर गप्पे हांकेंगें ।
गधे और घोडे कैसे एक साथ जुत रहे हैं। शेर और बकरी कैसे एक साथ एक ही घाट पर पानी पीते हैं। यदि यह सब देखना है तो बजाए घर में बाल बच्चों के साथ सिर खपाने या टेलीवीजन पर अलाने-फलाने का स्वयंवर या सास-बहु का रोना धोना देखकर अपना ब्लड प्रैशर बढाने के यहाँ हिन्दी चिट्ठानगरी में पधारिए और हो सके तो अपने अडोसी-पडोसी, नाते रिश्तेदार, दोस्त-दुश्मन सब को हिन्दी चिट्ठाकारी का माहत्मय समझाकर उन्हे इस अनोखी दुनिया से जुडने के लिए प्रोत्साहित कीजिए क्यों कि निश्चित ही आने वाला कल हिन्दी ब्लागिंग के नाम रहने वाला है। ऎसा न हो कि कल वक्त आगे निकल जाए और आप पिछडों की श्रेणी में खडे उसे दूर जाते देखते रहें।

मंगलवार, 6 जनवरी 2009

बेचारे गधों का इतना अपमान क्यूं ?

संसार में जितने भी जीव हैं, उन मे से गधे को परले दर्जे का मूर्ख समझा जाता है.लेकिन मेरे विचार से केवलमात्र उस बेचारे की सादगी ओर सहिष्णुता को ही उसकी मूर्खता मान लिया गया है.जब कि वो तो नितांत 'गांधीवादी विचारधारा' का समर्थक जीव है. जैसा कि गांधी जी स्वयम कहा करते थे कि 'सादा जीवन-उच्च विचार'.चाहे ओर किसी ने उनके कथन का अनुसरण किया हो अथवा नहीं,किन्तु गधे ने उनके वचनों का अक्षरश: पालन करते हुए सादगी को अपने जीवन में सम्मिलित किया है.ओर हम लोग हैं कि उसकी सादगी एवं सहिष्णुता को उसकी मूर्खता समझ बैठे.कदाचित इस दुनिया मे जीने के लिए सीधापन बिल्कुल भी उपयुक्त नहीं है.

गधा वास्तव में सुख-दुख,मान-अपमान मे समभाव रखने वाला जीव है.चाहे कैसी भी परिस्थिती हो, यह कभी भी किसी बात को स्टेटस सिंबल नहीं बनाता.पिछले दिनों राजस्थान में नोवीं कक्षा की पाठयपुस्तक के एक लेख में गधे की तुलना नेताओं से कर दी गई.लेकिन ऎसी अपमानजनक तुलना के बावजूद भी गधों ने कोई आपत्ति दर्ज नहीं की.अगर ओर कोई होता तो अब तक शिक्षा विभाग पर मानहानि का दावा ठोंक दिया होता.क्या इस से ज्यादा सहनशील जीव आपको पृ्थ्वी पर अन्य मिल सकता है?

अभी कुछ महीने पहले की ही एक ओर घट्ना मुझे याद आती है जब मध्यप्रदेश के एक अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री रोजा इफ्तार पार्टी मे गए तो कुछ संगठनों के नेताओं ने उनके विरोध स्वरूप मंत्री महोदय की तेहरवीं की और ब्राह्मण भोजन स्वरूप गधों कों भोजन कराया .अब आप बेचारे गधों की बंधुत्व भावना देखिए की उन्होने बिना आनाकानी किए भोजन कर भी लिया. जब कि शास्त्रों मे ब्राह्मण का शूद्रों के घर भोजन करना त्याज्य माना गया है.अब आप ही बताऎं कि क्या इससे बढकर कोई सामाजिक समरसता वाला जीव आपने अभी तक अपने जीवन में देखा है.वैसे भी अपना-पराया,छोटा-बडा,जात-पात ये सब तो अल्पबुद्धियों के दिमाग की उपज हैं,उदारचरित वालों के लिए तो सारी पृ्थ्वी ही कुटुम्ब है.

गधर्भ महाराज की एक और विशेषता यह भी है कि इन्हे दुनिया के किसी भी झगडे-झंझट,झमेले से कोई सरोकार नहीं है."ना काहू से दोस्ती अर ना काहू से बैर"इस नीतिवचन का लंगोट संभालते हुए(अजी मेरा मतलब अनुसरण करते हुए) ये ना तो अमरीका की तरह किन्ही दो देशों के लफडे में पडता हैं. ना किसी की पीठ थपथपाता हैं ओर ना ही किसी को धमकाता हैं.
बस अपने विरासती अलमस्त अंदाज में चल अकेला-चल अकेला-चल अकेला.....तेरा मेला पीछे छूटा राही चल अकेला... गुनगुनाते हुए जीवन पथ पर बढता जाता है.
अब आप ही बताऎं कि इतने गुणी जीव का ऎसा घोर अपमान कहां तक सहनीय हो सकता है?.
सच पूछो तो आज इन्सान से बढकर नासमझ जीव इस सृ्ष्टि में दूसरा नहीं है ओर हम लोग हैं कि बेचारे गधे को ही मूर्खता का प्रयाय मानकर प्रताडित करनें में लगे हुए हैं.

आज गधे को सम्मान देकर, उसका अनुसरण कर जहां एक ओर हम एक सभ्य समाज की परिकल्पना को साकार कर सकते हैं, वहीं दूसरी ओर सदियों से इस गुणी जीव पर अपने पूर्वजों द्वारा किए गए अपमान का शायद थोडा बहुत प्रायश्चित भी कर सकते हैं ।

अपने जीवन में कितने ही गधों की संगत करने के बाद आज मैं इस निष्कर्ष पर पहुँचा हूँ कि गधा अनुकरणीय तो है ही,वन्दनीय एवं प्रात: स्मरणीय भी है। गधे के अपने आदर्श हैं, अपनी फिलॉसाफ़ी है, ज़िंदगी के अपने कुछ मापदंड हैं, सिद्धांत हैं।

मेरा तो केवल यही मानना है कि जब तक गधे का आंकलन महज गधे की दृष्टि से ही किया जाएगा, तब तक न तो समाज का भला होने वाला है, न देश का, न दुनिया का और न ही इस चिट्ठाजगत का।