ad

भिखारी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
भिखारी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 23 जनवरी 2009

मुम्बई के मालदार भिखारी

कह्ते हैं कि भीख मांगना भी अपने आप में एक कला है, चलिए आज आप को मिलवाते हैं इस कला के माहिर मुम्बई के कुछ मालदार धनी भिखारियों से...........


नाम = मासू उर्फ मौलाना
आयु = 60 वर्ष
सम्पत्ति = इनके अपने नाम पर ही 30 लाख की प्रापर्टी है, नकद पूंजी का कोई ब्योरा नहीं .
कमाई = 1000 से 1500 रूपए रोजाना
कार्यक्षेत्र = लोखंडवाला के महंगे होटल ओर रेस्टोरैंट्स के आसपास का इलाका जहां पर आमतोर पर टेलिवीजन और फिल्मों से सबंधित हस्तियों का आना जाना लगा रहता है.
काम का समय = रात 8 बजे से सुबह 3 बजे तक सिर्फ 7 घंटे की डयूटी.
(यह पढकर बहुत सारे ब्लागर भाई जो कि नौकरीपेशा हैं उनको तो इसके भाग्य से ईर्ष्या होने लगी होगी,बेचारे सोचते होंगे एक हम लोग हैं कि आफिस में 8-10 घण्टे की इतनी सख्त डयूटी करते हैं कि अपने ब्लाग पर नई पोस्ट लिखने का भी समय नहीं निकाल पाते.)
रिहाइश = अंधेरी(पश्चिम) में एक वन बैडरूम हाल का फ्लैट जहां ये महाश्य अपने परिवार सहित रहते हैं तथा अंधेरी के ही अम्बोली नामक स्थान पर एक ओर वन बैडरूम हाल का फ्लैट किराये पर दिया हुआ है.
परिवार =परिवार में पत्नि,दो लडके ओर एक पुत्रवधु. बडा बेटा अंधेरी रेलवे स्टेशन के पास झाडू इत्यादी बनाने का व्यवसाय करता है.
------------------------------------------------------------------------
नाम = भारत जैन
आयु = 45 वर्ष
सम्पति = इनके अपने नाम पर 70 लाख की प्रापर्टी. परेल इलाके में 2 सिंगल बैडरूम हाल के फ्लैटस जहां पर एक में इनका परिवार निवास करता है.दूसरा किराये पर दिया हुआ है. भांडूप में 1 दुकान जो किसी जूस वाले को 7000 रूपए मासिक किराये पर दी हुई है.
कमाई = रोजाना 2000 से 2500 रूपए
कार्यक्षेत्र = आजाद मैदान और छत्रपति शिवा जी टर्मिनल का इलाका
काम का समय = सुबह 9-10 बजे से देर रात तक
परिवार = पत्नि,दो बेटे जिनमे से बडा बेटा क्लास 12वीं में तथा छोटा 10वीं मे पढ रहे हैं.पिता ओर एक छोटा भाई जो कि इसके साथ ही रहते हैं.छोटा भाई स्वयं स्टेशनरी की दुकान कर करता है.
त्योहार या अन्य किसी आयोजन पर भाई भी भीख मांगने के धंधे में इसका साथ देता है, तब दुकानदारी पिता जी संभालते हैं. ओर कभी कभार समय मिलने पर यह भी भाई की दुकान में हाथ बटा देता है.

विशेषता = आप इसे कोई लल्लू-पंजू भिखारी मत समझ बैठना.ये एक पढा लिखा ग्रैजूएट भिखारी है जो कि धारा प्रवाह अंग्रेजी बोलता है.

मंगलवार, 20 जनवरी 2009

बूझो तो जाने (चित्र पहेली)

कहते हैं कि असली दुकानदार वही है जो कि बाजार की नब्ज पहचानता हो,जिसे ग्राहकों की पसन्द/नापसंद का अनुमान लगाना आता हो.अब हम तो ठहरे नितांत पोंगा पंडित, हमें दुकानदारी या बाजार के माहौल के बारे में क्या पता. अपना तो जिन्दगी जीने का सीधा सा तरीका है, जिधर को हवा बहा ले गई बस उधर को ही बहते चले गए.
आजकल चिट्ठाजगत पर पहेलियों की बयार बह रही है.एक तरफ हमारे ब्लागजगत के पहेली सम्राट राज भाटिया जी तथा दूसरी ओर अरविन्द मिश्रा जी नई नई पहेलियों के जरिए हमारी जानकारियों में वृ्द्धि कर रहे हैं. वहीं मोहन जी भी अपने चिट्ठे पर यदा कदा पहेली चिपका ही देते है(आजकल शायद वो छुट्टी पर चल रहे हैं).ओर तो ओर आजकल अपने ताऊ ने भी शनिवार के दिन चोरी/ठगी/बेईमानी का धंधा छोडकर पहेली पूछने का काम पकड लिया है.जरूर शनि देवता ने ताऊ के सुपने में आके लट्ठ बजाए होंगे के 'ऊत ठहर जा, नईं तो तेरे पै साढेसाती शुरू कर दयूंगा'.अर लगता है कि डर के मारे ताऊ नै हफ्ते में शनिवार का दिन ईमानदारी से बिताने का निर्णय ले लिया ओर खाली बचे टाईम का सदुपयोग करते हुए पहेलियां बुझानी शुरू कर दी.
जैसा कि मैने आपको पहले बताया कि अपनी जिंदगी का तो सीधा सा फलसफा है कि जिधर को हवा बहा ले गई, उधर को ही बहते चले गए .ओर इसी हवा के बहाव को देखते हुए आज मैने भी आप लोगों से एक पहेली पूछने का मन बनाया है.
आप यहां जो तस्वीर देख रहे हैं, उसमें एक तरफ की कुर्सी पर तो अपने ताऊ बुश बैठे हैं तथा दूसरी कुर्सी पर चाचा ओबामा.साथ ही उनके चरणों में मामा जरदारी याचक की मुद्रा में बैठे दिखाई दे रहे हैं.
अब आप लोगों को सिर्फ इतना बताना है कि मामा श्री जरदारी क्या कहना चाह रहे हैं या फिर क्या मागं रहे हैं.
बस अब आप फटाफट जवाब दे दीजिए.
पहेली के विजेताओं का निर्णय उत्तर की रोचकता के आधार पर किया जाएगा.
पहेली के विजेता को मिलेगा 9 दिन ओर 6 रातों के लिए पाकिस्तान टूरिज्म की तरफ से ब्लूचीस्तान के कबायली इलाके का एक फ्री हालिडे पैकेज.



(disclaimer:- इस पोस्ट का जो शीर्षक "बूझो तो जाने" मैने रखा है, असल में वो हमारे राज भाटिया जी अपनी पहेलियों में प्रयोग करते हैं,जिसका मैने उन्हे पूछे बगैर प्रयोग किया है.अब भाटिया जी से निवेदन है कि अगर कोई कापीराईट वाला मामला बनता हो तो कृ्प्या गरीब ब्राह्मण समझ कर क्षमा कर दें)