ad

एलोपैथी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
एलोपैथी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 13 अगस्त 2010

क्या वाकई में रोग जीवाणुओं की वजह से होते हैं ???

बैक्टीरिया या वायरस का नाम सुनते ही कँपकँपी आना किसी के लिए भी स्वाभाविक है, क्यों कि हम सब की सामान्यत यह धारण है कि जीवाणु रोग उत्पति के कारण है,और इनका बढना बीमारी ही नहीं बल्कि महामारी का भी कारण हो सकता है. हमारे प्राचीन ग्रन्थों में इसकी काफी चर्चा है. छुआछूत,स्नान,मंजन,शौच,लघुशंका के बाद तथा प्रसव के बाद के नियम स्पष्ट बताए गए हैं. और साथ ही क्या क्या सावधानी भी बरतनी है,हमारे पूर्वजों को भलीभान्ती ज्ञात था. इसलिए इस पर विशद ज्ञान का भी वर्णन है. यह तो सर्वविदित है कि 1929 में अलेक्जैन्डर फ्लैमिंग नें पेनिसिलीन नाम के एन्टीबायोटिक की खोज की थी और उनकी यह खोज उनकी प्रयोगशाला में कुछ बैक्टीरिया के कल्चर के समय हुई.बैक्टीरिया के साथ साथ जीवाणु की एक ओर नस्ल है---भूखडी या फफूँद. एक बार फ्लेमिंग नें देखा कि स्टेफाईलोकोकाई बैक्टीरिया का उत्पादन कुछ स्थानों पर समाप्त हो गया है,क्यों कि वहाँ पर एक फफूँद उग आई है.वह फफूँद थी पेनिसिलीन नोटैम नामक फफूँद. उसे चिन्ता ही नहीं आश्चर्य भी हुआ कि आखिर उस फफूँद नें क्योंकर बैक्टीरिया का केवल बढना ही नहीं रोका,उसे पूरी तरह से नष्ट भी कर दिया. फिर उसी फफूँद से पैदा किया गया पेनिसिलीन जो लगभग 30 वर्षों तक जीवाणु जनित रोगों में अचूक रामबाण औषधी था.
असहयोग आन्दोलन के समय महात्मा गाँधी की पत्नि कस्तूरबा जब पूना जेल में थी तो इसी पेनिसिलीन के इन्जेक्शनों द्वारा ही उनके रोग पर काबू पाया गया. हर 6 घंटे बाद उन्हे ये इंजेक्शन लगाया जाता था और उस जमाने में इसके एक इंजेक्शन की कीमत थी--40 रूपए जो कि आज के हिसाब से 8-9 हजार रूपए के बराबर है.धीरे धीरे ये हुआ कि इस इंजेक्शन का प्रभाव न केवल कम होता चला गया बल्कि इसके कारण मृ्त्यु तक होने लगी.अगर आज किसी डाक्टर से पेनिसिलीन का इंजेक्शन लगाने को कह दिया जाए तो वह आपका मुँह ताकने लगेगा---क्यों कि वह जानता है कि यह अपने समय का रामबाण अब निष्प्रभावी ही नहीं,बल्कि घातक भी हो गया है.
एक फफूँद नें जीवित बैक्टीरिया को क्योंकर और कैसे नष्ट किया था ? और यहीं से उत्पत्ति हुई ऎसी दवाईयों की जो एक जीवित का उपयोग दूसरे जीवित को नष्ट करने के काम आए अर्थात ऎंटिबायोटिक.(ऎंटी--अर्थात विरूद्ध और बायो---जीवित या जीवन्त तथा इक्स---पदार्थ) आज अनेक प्रकार के फफूंद से नए नए ऎंटीबायोटिक बनाए जा रहे हैं. पर क्या हम इनसे रोग पैदा करने वाले जीवाणु या विषाणुओं को रोक सकेंगें ?
बैक्टिरिया एवं वायरस तो रहेंगें ही,क्यों कि वे भी सृ्ष्टि या प्रकृ्ति का एक अंग हैं.जब हम और आप वैज्ञानिकों के साथ मिलकर उन्हे नष्ट करने या मार डालने का प्रयास करते हैं तो वे भी अपने बचाव के लिए नए नए तरीके ईजाद कर लेते हैं---और फिर वैज्ञानिक ढूँढने लगते हैं इन नए परिवर्तित जीवाणुओं से निपटने का कोई नया उपचार. कौन नहीं जानता कि H.I.V की खोज पहली बार केवल 26 वर्ष पूर्व हुई थी. तब से इन 26 वर्षों में H.I.V नए नए प्रकारों में बँटता जा रहा है. H.I.V.-1, H.I.V -2 और अब आ गया है H.I.V-3. तो क्या ये अलग अलग वायरस हैं? या फिर वे ही अपना रूप, आकार, क्षमता घटाते बढाते जाते है.क्या केवल इतना सही नहीं है कि जब आप उन्हे मारेंगें,नष्ट करने का प्रयास करेंगें,तो वे भी अपना स्वरूप बदल लेंगें. हो सकता है कि वे नए रूप में भी आ जाएं. शायद आपको 1997 का "पागल गाय रोग" (Mad Cow Diseases) का पता होगा.गायों पर इसका हमला इसलिए नहीं हुआ कि वह कहीं सुदूर से आया था,बल्कि इस तरह के जीवाणु सुप्त अवस्था में गायों के शरीर के अन्दर ही रहते हैं और वे किसी प्रकार का कोई रोग नहीं उत्पन करते.
लेकिन जब आप शुद्ध शाकाहारी,घास-फूस खाने वाली गाय को माँसाहारी बना देंगें,जैसा इंग्लैंड में किया गया तो उनका बीमार होना निश्चित था. इन दूध देने वाली गायों को उनके भोजन में,माँस के लिए काटी गई गायों का अवशेष,जो वहाँ किसी काम में नहीं आ सकता था, खिलाया गया.(हमारे इस देश में इन्ही जानवरों की हड्डियों से कैल्शियम की गोली और रक्त से टानिक बनाया जाता है,जो हमारे विद्वान(?) डाक्टरों द्वारा जानबूझकर कितने ही भारतीयों के पेट में ठूँस दी जाती है).जब इन विलायती गायों नें अपने ही परिवार की गायों की हड्डी,खून,आँतें खाई तो निश्चित ही था कि उनकी रोग प्रतिरोधक शक्ति कम होनी ही थी. और ऎसा हुआ भी----गायों को मस्तिष्क रोग हुआ और उनका माँस खाने से इन्सानों में भी हुआ. इंग्लैंड में उस समय इस रोग से कितनी ही मौतें हुई. अन्तोगत्वा लाखों गायों को काटकर गाड दिया गाय,क्यों कि उनका माँस खाने वाला पूरे विश्व में उस समय कोई तैयार नहीं था.
सन 1988 में हाँगकाँग में भी ऎसी ही घटना हुई---मुर्गियों में एक प्रकार का जीवाणु एवियन फ्लू का प्रकोप हुआ, जिससे कईं लोगों की मौत हुई. अभी कोई बहुत दिन नहीं हुए जब समूचे विश्व में बर्ड फ्लू और स्वाईन फ्लू नाम के नये वायरस का प्रकोप छाया रहा. न जाने कितने लोगों की मौत हुई और अन्तोगत्वा लाखों करोडों मुर्गियों,सूअरों को मारकर दफना दिया गया था. यहाँ भी कारण वही है कि मुर्गियों,सूअरों को उनके प्राकृ्तिक वातावरण और भोजन इत्यादि पर न रखकर उन्हे एक विशिष्ट पद्धति पर पाला गया था,जिसमें ऎंटीबायोटिक,हार्मोंन इत्यादि बहुतायत में प्रयोग किए जाते हैं. अब यह गायों,मुर्गियों,सूअरों की इच्छा(जो प्रकृ्ति के नियम पर आधारित है) पर निर्भर नहीं कि वे कब गर्भ धारण करेंगीं,या बच्चे,अंडें देगी. अब यह तो इनका मालिक या पशु चिकित्सक तय करेगा. बिना मुर्गे के अंडा.
काफी वर्षों से मुर्गीपालक वर्जिनियामाईसीन नामक एक दवा का प्रयोग करते रहे हैं जो चूजों की वृ्द्धि करता है. और इसका असर यह हुआ कि मुर्गी खाने वालों को ऎसे बैक्टिरिया ई-फैसियम से पाला पड रहा है जो हर किसी ऎंटिबायोटिक का प्रतिरोधी है. इतना ही नहीं गोश्त के माध्यम शरीर में पहुँचे ये जीवाणु मनुष्यों में जीवित ही नहीं रहते बल्कि फलते फूलते भी हैं और रोग पैदा करने की क्षमता भी रखते हैं.
इन जीवाणुऔ के कारण दुनिया के न जाने कितने मुल्कों में लाखों करोडों गायों,मुर्गियों,सूअरों को काटकर दफन कर दिया गया. पर क्या इन जीवाणुओं पर काबू पा लिया गया ? नहीं.
अभी तक तो हमारे देश में कसाईघरों में खून,आँत और हड्डियों का प्रयोग दवाओं के रूप में किया जाता रहा है. शायद ही आप विश्वास करें कि हड्डियों का चूरा दवा की गोली के रूप में 12000 रूपए किलो के हिसाब से बिक रहा है. गायं,भैंस और बकरे का खून जिसका कोई व्यवसायिक प्रयोग नहीं हैं--500 रूपए किलो है. जहाँ तक मेरा ज्ञान है दुनिया के सभी धर्मों में खून का प्रयोग वर्जित है, पर हमारे इस देश में शाकाहारी डाक्टर लिख रहे हैं और शाकाहारी यहाँ तक कि जैन धर्मावलंबी भी खा रहे हैं----इन गोलियों और टानिकों कों.
पिछले कुछ वर्षों में बढे जोडों की गठिया, जो अपने पूर्व प्रधानमन्त्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी थी.उसके बचाव के लिए नई और आधुनिक दो दवाएं हैं---ल्यूकोसीन और कोड्राइटम सल्फेट.ये दोनों दवाईयाँ जानवरों और मछलियों के अवशेष से बनाई जाती हैं और कीमत है 1500 से 45000 रू प्रति माह, जो तीन महीने खाकर तीन महीनें नहीं खानी हैं अर्थात साल भर में 6 माह का सेवन. शायद इनसे आपकी गठिया तो ठीक नहीं होगी लेकिन जेबें जरूर खाली हो जाएंगीं. अगर आप बहुत सम्पन्न हैं और जेब की कोई फिक्र नहीं हैं तो "पागल गाय रोग"(Mad cow disease) की सम्भावना अवश्य होगी. सोचिए क्या आप हर खाँसी, जुकाम, नजला पर एंटीबायोटिक सीधे या फिर कैल्शियम,टोनिक खाएंगें----या फिर खाएंगें स्वस्थ पूर्ण भोजन----भोजन या भोजन पूरक के बीच की पसन्द आपकी है.....
साभार:-डा. आर. सी. मिश्र, जिनके एक लेख के आधार पर ये पोस्ट लिखी गई है.