ad

चर्चिल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
चर्चिल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 2 जनवरी 2009

तमाशबीन

बहुत पहले कहीं शायद किसी पत्रिका में पढा था कि एक बार विंस्टन चर्चिल किसी सभा को संबोधित कर रहे थे।

तभी उनके एक मित्र ने उनसे कहा, देखिये आपकी लोकप्रियता इतनी अधिक है कि 10 हजार लोग आपका भाषण सुनने के लिए एकत्रित हुए है।

तब चर्चिल बोले, दरसल यह सब तमाशबीन है। यदि किसी दिन मुझे फांसी देने की घोषणा हो जाए तो इसी जगह 1 लाख लोग इक्कठे हो जाएंगे। यह तो केवलमात्र तुम्हारा भ्रम है कि ये सब मेरे प्रशंसक है।

काश आज के राजनेताओं में भी इतनी समझ हो पाती.