ad

हरियाणवी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
हरियाणवी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 28 दिसंबर 2008

विंडोज xp का नया बिहारी संस्करण

माइक्रोसाफ्ट ने विंडोज एक्स.पी का बिहारी संस्करण लांच किया है.ओर विश्वसनीय सूत्रों से पता चला है कि चिट्ठाजगत पर हरियाणवी भाषा की बढती लोकप्रियता देखकर वर्ष 2009 में हरियाणवी संस्करण भी मार्कीट में उतारणे पर विचार किया जा रहा है.
सूत्रों का तो यहां तक कहना है कि कंपनी में इसके ब्रांड अंबैसटर हेतु "ताऊ" का नाम भी तय कर लिया गया है.
(किसी भी भाषा/जाति/व्यक्ति अथवा प्रदेश के सम्मान को ठेस पहुंचाने की हमारी कोई भी मंशा नहीं है, पाठकों से अनुरोध है कि कृप्या आप इस पोस्ट को केवल हास्य/मनोरंजन के तौर पर ही लें)

शनिवार, 13 दिसंबर 2008

कुछ हरियाणवी चुटकले

1. एक बार एक सेठ की दुकान में चोरी हो गई । सेठ ने थाने में रपट लिखवा दी ।

अगले दिन सेठ की दुकान पर तीन सिपाही आ पहुंचे और पूछताछ करने लगे । फिर एक सिपाही ने एक बोरी में से थोड़े भुने हुए चने उठाये और खाने लगा । दूसरे ने थोड़ी मूंगफली की मुट्ठी भर ली और तीसरे ने पतासे खाने शुरु कर दिये ।

थोड़ी देर बात थाणेदार आया और सेठ से बोला - सेठ, कितने का नुकसान हुआ ?

सेठ ने जवाब दिया - जी, नुकसान खतम कित हुया सै, ईबै तै होण ए लाग रहया सै !!
-------------------------------------------------------------------------


2. एक बार एक बनिये की छोरी(लडकी) के ब्याह में फेरे करवाण खातिर कोई पंडित ना मिल्या । जब कित्तै तैं पंडित का जुगाड़ ना हुया तै छोरी आळे एक जिम्मेदार जाट नै ले आये । जाट नै फेरे शुरु करवा दिये ।

तीन फेरे होण पाच्छै जाट बोल्या - भाइयो, रस्म तै पूरी हो-गी, छोरी की विदाई करवाओ ।

छोरे आळे बाराती बोले - जी, फेरे तै सात होया करैं,अर इभी तो तीन ही होए हैं ।

जाट बोल्या - भाई, बात इसी सै, जे उसनै रुकणा होगा तै तीन फेरयां में भी कित्तै ना जावै । अर जै इसनै भाजणा ए सै, तै चाहे पच्चीस फेरे करवा ल्यो !!
------------------------------------------------------------------------


3. एक बार एक सेठ के घर में सांप घुस गया । सेठ ने चिल्लाना शुरू किया, लोग इकट्ठे हो गए । एक जाट गया अन्दर लाठी ले कर । उसके घुसते ही सेठ बाहर आया और दरवाजे की कुंडी बंद कर दी ।

लोग बोले - सेठ ये क्या किया ?

सेठ बोल्या - दो दुश्मन भीतर सैं - एक तै मरै ए गा !!
-------------------------------------------------------------------------


4. एक बार एक बीमे का एजेन्ट गाहक बणावन खातिर एक गाम में चल्या गया और लाग्या एक ताऊ नै बीमे की पोलिसी समझावण । बोल्या - ताऊ, या पोलिसी इसी सै अक जै तू मर-ग्या तै तेरे घर आळां नै इतने पैसे मिल-ज्यांगे । अर या एक और पोलिसी इसी सै अक जै तू मर ग्या, तै जितने का बीमा सै, उसतैं दुगुने पैसे मिल ज्यांगे ... अर एक या नई पोलिसी सै जिसमैं तीन गुणे पैसे मिल ज्यांगे ।

ताऊ कै आया गुस्सा, अर बोल्या - "भाई, तेरी सारी पोलिसी ठीक सैं - तू आपणी या किताब तै बंद कर दे, अर कोई इसी पोलिसी बता दे अक मर तै बीमे का एजेंट जावै और पैसे हम नै मिल जावैं !!

बुधवार, 3 दिसंबर 2008

कुछ हरियाणवी चुटकले

1.
एक बार एक चौधरी साहब छोरी देखन चले गए .
आपने छोरे खातर . छोरी जमीं घनी काली थी . चोधरी
साहब के कोन्या पसंद आई . छोरी का बाबू बोल्या चोधरी
साहब छोरी नै पसंद कर जाओ . कार दे देवां गे दहेज़ मै .
चोधरी साहब बोल्ये -- भाई तू तो कार दे कै डिगा देगा .
जै यो खरना म्हारे चला गया तो आगली पीडी में म्हारी
छोरी ट्रक दिए पाछे भी ना ब्याई जावै

2.
एक बार एक मुक्कदमे में ताई गवाह बना दी ! ताई जा के खड़ी होई, अर् दोनू वकील भी ताई के गाम के ई थे !
वकील बोल्या " ताई तू मन्ने जाने है ?
ताई" हाँ तू रामफूल का है ना. तेरा बाबु घणा सूधा आदमी था पर तू कत्ति निक्कमा एक नम्बर का झूठा . झूठ बोल बोल कै तूं लोग नै ठगे है नरे झूठे गवाह बना के तू केस जीते है . तेरे तें तो सारे लोग परेशान हैं तेरी लुगाई भी परेशान हो के तन्ने छोड़ कै चली गयी !
वकील बेचारा चुप. उसनै थोडी देर मैं दूसरे वकील कानी ईसारा करया अर फेर पुछया " तू इसने जाने है ?"
ताई बोली " हाँ यो रूल्दू का छोरा है. इसके बाबु ने निरे रूपिये खर्च करके यो पढाया अर् इसने कख नही सिखया सारी उमर छोरिया पाछै हांडे गया. इसका चक्कर तेरी बहू गेल भी था ! आज ताहि इसने एक भी मुक्कादमा नही जित्या है!
जनता हांसन लग गयी जज बोल्या "आर्डर आर्डर "
अर् दोनू वकील बुलाये और कहन लगया " जे थाम दोनुवा में तै किसे नै भी या पूछ ली के या मन्ने जाने है तो मैं थारे गोली मरवा दयूंगा.

3.
एक बै एक किसान रहट में बैल जोड़कर पानी निकाल रहा था .
बैल अपने आप चारो तरफ़ गोल गोल घूम रहे थे और किसान आँख बंद कर पेड़ के नीचे लेटा हुआ था .
तभी उधर से एक वकील साहब गुजरे . वो किसान से बोले .
वकील बोल्या --तुम यहाँ पेड़ के नीचे लेटे हो तुम्हे कैसे पता चलता है कि बैल पानी निकाल रहे है, वो खड़े भी हो सकते है . और तुम सोचोगे वो चल रहे है .
किसान बोल्या -- भाई मैं इतना पागल कौणी, मणै घंटी बाँध राखी सै उनके गले में . जै वे रुकेंगे
तो घंटी बाजनी बंद हो ज्या गी और मने बेरा लाग ज्या गा .
वकील फेर बोल्या -- अरे जै वे बैल एक जगह खड़े हो कै नाड हिलान लाग गे तै फेर ताने क्यूकर बेरा
लगेगा की खड़े सै के रुक रे सै .
किसान बोल्या --- भाई वे इसा काम कोन्या करैं . वे बैल सै वकील कोन्या