ad

जानवर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जानवर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शुक्रवार, 14 नवंबर 2008

विकसित देश की पहचान

गुरु : विकसित देश की कोई पहचान बताओ बेटा !
चेला : विकसित देश विकासशील देशों को दान देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला: फिर कर्ज देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला: फिर ब्याज के साथ कर्ज देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला: और फिर ब्याज ही कर्ज देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला : और फिर विकसित देशों को विकसित मान लेते हैं।

गुरु : विकसित देशों की कोई ओर पहचान बताओ बेटा !
चेला: विकसित देशों में मानसिक रोगी अधकि होते हैं।
गुरु : क्यों? शारीरिक रोगी क्यों नहीं होते?
चेला : क्योंकि शरीर पर तो उन्होंने अधिकार कर लिया है मन पर कोई अधिकार नहीं हो पाया है।

गुरु : कोई और पहचान बेटा !
चेला : विकसित देशों में तलाक़ें बहुत होती हैं।
गुरु : क्यों?
चेला : क्योंकि प्रेम बहुत होते हैं।
गुरु : प्रेम विवाह के बाद तलाक़ क्यों हो जाती है?
चेला : दूसरा प्रेम करने के लिए।

गुरु : कुछ और ?
चेला : विकसित देशों में बूढ़े अलग रहते हैं।
गुरु : और जवान?
चेला : वे भी अलग रहते हैं।
गुरु : और अधेड़?
चेला : वे भी अलग रहते हैं।
गुरु : तब वहां साथ-साथ कौन रहता है?
चेला : सब अपने-अपने साथ रहते हैं।

चेला : विकसित देशों में इंसान जानवरों से बड़ा प्यार करते हैं।

गुरु : क्योंकि जानवर इंसान से बड़ा प्यार करते हैं। इसी लिए ना ?

चेला : नहीं गुरुदेव ! इस लिए की वहां इंसान को इंसान का और जानवर को जानवर का प्यार नही मिलता

गुरु :इसका मतलब बहुत जल्द अब हम भी विकासशील से विकसित देशों की कतार में खड़े होने जा रहे हैं

आइये स्वागत करें नए विकसित भारत का ...........
(श्री हरिशंकर परसाई जी)