ad

भारत लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
भारत लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 20 फ़रवरी 2010

कुछ ऎसे सवाल जिनका जवाब खोजना बहुत जरूरी सा लगने लगा है!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

जन्मसंख्या की दृ्ष्टि से दुनिया का सबसे बडा लोकतन्त्र देश-----भारत। जहाँ संसार के हर धर्म को मानने वाला शख्स मिलेगा। जहाँ आधुनिकता की चरम सीमा तक पहुँच चुके धन कुबेरों की कमी नहीं तो दूसरी ओर अनादिकाल से चले आ रहे आदिवासी भी साथ साथ ही पल रहे हैं। सुनने में आता है कि देश की आजादी के बाद के शुरूआती समय में ये कहा जाता था कि जातिभेद और धर्मभेद के कारण और अविकसित राष्ट्रीयता के चलते ये देश आने वाले 5-10 सालों में ही या तो अपनी आजादी गँवा बैठेगा या फिर टुकडों में बँटकर पूरी तरह से छिन्न भिन्न हो चुका होगा। लेकिन तब से लेकर आज तक पाकिस्तान और चीन जैसे पडोसियों के प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से चलाए जा रहे युद्धों को झेलते हुए भी ये देश हर कसौटी पर खरा उतरता रहा। आज भी यहाँ लोकतन्त्र प्रणाली कायम है, भले ही वह औपचारिक, लुंज-पुंज एवं त्रुटियों का भंडार ही क्यों न बन चुकी हो।

लेकिन इन बडी बडी उपलब्धियों के बावजूद, देश की विशालता एवं विविधता के बाद भी आज एक आम भारतीय पूरी तरह से हताश और निराश है। आजादी के समय के सारे प्रश्न आज भी ज्यों के त्यों खडे हैं, उलटा समाज का नैतिक ह्रास होता हुआ ही दिख रहा है। ऎसा लग रहा है कि मानो हम लोग किसी उल्टी दिशा की ओर बढते चले जा रहे हैं। जिधर देखो उधर संकंट ही संकट क्यों दिखाई पड रहा है। मोर्चा नागरिक अधिकारों का हो कि जनसंख्या वृ्द्धि का,गरीबी-बेरोजगारी घटाने का हो कि भ्रष्टाचार का, शिक्षा की समस्या लीजिए या नशाखोरी की,मँहगाई का सवाल हो कि अराजकता का, महिलाओं की दशा लीजिए या एक आम आदमी की सुरक्षा के हालातों पर दृ्ष्टि डालिए------इस देश में चारों तरफ संकंट ही संकंट क्यों दिखाई दे रहा है?
आज इन सवालों को समझना और इनके जवाब खोजना बहुत जरूरी हो गया है। इस देश के कर्णधारों के पास तो इन सवालों का कोई जवाब नहीं, सोचा कि शायद आप लोगों में से किसी के पास इन सवालों का कोई जवाब हो............

शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2010

पाकिस्तान भारत से कहीं अधिक खुशहाल देश है..........

आजकल हमारे यहाँ लुधियाना स्थित पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में 48वीं वार्षिक एल्यूमिनी मीट का आयोजन चल रहा है। जिसमें देश विदेश से आए नामी गिरामी साईंटिस्ट और यूनिवर्सिटी एक्स स्टूडेंट भाग ले रहे हैं। इस एल्यूमनी मीट में कभी पाकिस्तान की फैसलाबाद कृ्षि यूनिवर्सिटी में साईंटिस्ट रह चुके प्रोफैसर डा. हाफिज अब्दुल कयूम भी पहुँचे हुए हैं। कल की बात है जब ये प्रोफैसर महोदय पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे तो इन्होने कुछ ऎसी बात कही जिसे सुनकर तो मेरी हँसी अब तक थमने का नाम नहीं ले रही। आज अचानक बैठे बैठे मन में विचार आया कि क्यूं न इस वाकये को आप लोगों से साँझा किया जाए। तो सुनिये(पढिए) प्रोफैसर महोदय ने क्या कहा--------
प्रोफैसर हाफिज अब्दुल:- "मैं जब भी भारत की यात्रा पर आता हूँ तो यहाँ की अत्यधिक गरीबी देखकर मेरा मन इतना रोता है कि जिसे मैं ब्यां नहीं कर सकता"
यह बात सुनते ही झट से एक पत्रकार बोल उठा"डा. साहब, क्या पाकिस्तान में गरीबी नहीं है?"
डा. साहब का जवाब था कि "वैसे गरीबी तो पाकिस्तान में भी है, लेकिन उतनी नहीं जितनी भारत में हैं। कुछ मामलों में पाकिस्तान भारत से कहीं बेहतर स्थिति में है"
तो सुना(पढा) आपने....एक हम लोग हैं जो भारत के विश्व शक्ति बनने के झूठे ख्वाब देखने में लगे हुए हैं, जब कि हमसे कहीं बेहतर स्थिति में तो पाकिस्तान जैसा देश है :)

रविवार, 15 नवंबर 2009

भारतवर्ष के बारे में कुछ रोचक तथ्य



भारतवर्ष के बारे में कुछ रोचक तथ्य
  • इतिहास के अनुसार, आज तक भारतवर्ष ने किसी भी अन्य देश पर हमला नहीं किया है।
  • जब अनेक संस्कृतियों 5000 साल पहले ही घुमंतू वनवासी थी, भारतीय सिंधु घाटी (सिंधु घाटी सभ्यता) में हड़प्पा संस्कृति की स्थापना की।
  • शतरंज के खेल का आविष्कार भारतवर्ष द्वारा ही किया गया है।
  • बीज गणित, त्रिकोण मिति और कलन का अध्‍ययन भारत में ही आरंभ हुआ था।
  • ‘स्‍थान मूल्‍य प्रणाली’ और ‘दशमलव प्रणाली’ का विकास भारत में 100 BC में हुआ था।
  • विश्‍व का प्रथम ग्रेनाइट मंदिर तमिलनाडु के तंजौर में बृहदेश्‍वर मंदिर है। इस भव्‍य मंदिर के शिखर ग्रेनाइट के 80 टन के टुकड़े से बनें हैं, इसका निर्माण चोलवंशीय राजा के राज्‍य के दौरान केवल 5 वर्ष की अवधि में (1004 AD और 1009 AD के दौरान) किया गया था।
  • भारत विश्‍व का सबसे बड़ा लोकतंत्र और विश्‍व का छठवां सबसे बड़ा देश तथा प्राचीन सभ्‍यताओं में से एक है।
  • सांप सीढ़ी का खेल तेरहवीं शताब्‍दी में कवि संत ज्ञान देव द्वारा तैयार किया गया था इसे मूल रूप से मोक्षपट कहते थे। इस खेल में सीढियां वरदानों का प्रतिनिधित्‍व करती थीं जबकि सांप अवगुणों को दर्शाते थे। इस खेल को कौडियों तथा पांसे के साथ खेला जाता था। आगे चल कर इस खेल में कई बदलाव किए गए, परन्‍तु इसका अर्थ वहीं रहा अर्थात अच्‍छे काम लोगों को स्‍वर्ग की ओर ले जाते हैं जबकि बुरे काम दोबारा जन्‍म के चक्र में डाल देते हैं।
  • दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट का मैदान हिमाचल प्रदेश के चायल नामक स्‍थान पर है। इसे समुद्री सतह से 2444 मीटर की ऊंचाई पर भूमि को समतल बना कर 1893 में तैयार किया गया था।
  • भारत में विश्‍व भर से सबसे अधिक संख्‍या में डाक घर स्थित हैं।
  • विश्‍व का सबसे बड़ा नियोक्‍ता भारतीय रेल है, जिसमें पंद्रह लाख से अधिक व्यक्ति काम करते हैं।
  • विश्‍व का सबसे पहला विश्‍वविद्यालय 700 BC में तक्षशिला में स्‍थापित किया गया था। इसमें 60 से अधिक विषयों में 10,500 से अधिक छात्र दुनियाभर से आकर अध्‍ययन  करते थे। नालंदा विश्‍वविद्यालय चौथी शताब्‍दी में स्‍थापित किया गया था जो शिक्षा के क्षेत्र में प्राचीन भारत की महानतम उपलब्धियों में से एक है।
  • आयुर्वेद मानव जाति के लिए ज्ञात सबसे आरंभिक चिकित्‍सा शाखा है। शाखा विज्ञान के जनक माने जाने वाले चरक में 2500 वर्ष पहले आयुर्वेद का समेकन किया था।
  • भारत 17वीं शताब्‍दी के आरंभ तक ब्रिटिश राज्‍य आने से पूर्व विश्व का सबसे सम्‍पन्‍न देश था। क्रिस्‍टोफर कोलम्‍बस ने भारत की सम्‍पन्‍नता से आकर्षित हो कर ही भारत आने का समुद्री मार्ग खोजना चाहा, लेकिन गलती से भारत की अपेक्षा अमेरिका पहुँच गया।
  • नौवहन की कला और नौवहन का जन्‍म 6000 वर्ष पहले सिंध नदी में हुआ था। दुनिया का सबसे पहला नौवहन संस्‍कृ‍त शब्‍द नव गति से उत्‍पन्‍न हुआ है। शब्‍द नौ सेना भी संस्‍कृत शब्‍द नोउ से हुआ।
  • भास्‍कराचार्य ने खगोल शास्‍त्र के कई सौ साल पहले पृथ्‍वी द्वारा सूर्य के चारों ओर चक्‍कर लगाने में लगने वाले सही समय की गणना की थी। उनकी गणना के अनुसार सूर्य की परिक्रमा में पृथ्‍वी को 365.258756484 दिन का समय लगता है।(लेकिन श्रेय विदेशी ले गए)
  • भारतीय गणितज्ञ बुधायन द्वारा ‘पाई’ का मूल्‍य ज्ञात किया गया था और उन्‍होंने जिस संकल्‍पना को समझाया उसे ही आज हम पाइथागोरस का प्रमेय कहते हैं। उन्‍होंने इसकी खोज छठवीं शताब्‍दी में की, जो यूरोपीय गणितज्ञों से काफी समय पहले की गई थी।( मूल खोजकर्ता का आज कोई नाम भी नहीं जानता, लेकिन सारी दुनिया समझती है कि ये पाईथागोरस की खोज है)
  • बीज गणित(Algebra), त्रिकोण मिति और कलन का उद्भव भी भारत में हुआ था। चतुष्‍पद समीकरण का उपयोग 11वीं शताब्‍दी में श्री धराचार्य द्वारा किया गया था। ग्रीक तथा रोमनों द्वारा उपयोग की गई की सबसे बड़ी संख्‍या 106 थी जबकि हिन्‍दुओं ने 10*53 जितने बड़े अंकों का उपयोग (अर्थात 10 की घात 53), के साथ विशिष्‍ट नाम 5000 BC के दौरान किया। आज भी उपयोग की जाने वाली सबसे बड़ी संख्‍या टेरा: 10*12 (10 की घात12) है। (कहीं कोई श्रेय नहीं )
  • सुश्रुत को शल्‍य चिकित्‍सा (Surgery) का जनक माना जाता है। लगभग 2600 वर्ष पहले सुश्रुत और उनके सहयोगियों ने मोतियाबिंद, कृत्रिम अंगों को लगना, शल्‍य क्रिया द्वारा प्रसव, अस्थिभंग जोड़ना, मूत्राशय की पथरी, प्‍लास्टिक सर्जरी और मस्तिष्‍क की शल्‍य क्रियाएं आदि की।
  • निश्‍चेतक(Anesthesia) का उपयोग भारतीय प्राचीन चिकित्‍सा विज्ञान में भली भांति ज्ञात था। शारीरिकी, भ्रूण विज्ञान, पाचन, चयापचय, शरीर क्रिया विज्ञान, इटियोलॉजी, आनुवांशिकी और प्रतिरक्षा विज्ञान आदि विषय भी प्राचीन भारतीय ग्रंथों में पाए जाते हैं।
  • भारत से 90 देशों को सॉफ्टवेयर का निर्यात किया जाता है।
  • भारत में 4 धर्मों का जन्‍म हुआ – हिन्‍दु धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म ओर सिक्‍ख धर्म, जिनका पालन दुनिया की आबादी का एक बड़ा हिस्‍सा करता है।
  • भारत में 3,00,000 मस्जिदें हैं जो किसी अन्‍य देश से अधिक हैं, यहां तक कि मुस्लिम देशों से भी अधिक।
  • भारत में सबसे पुराना यूरोपियन चर्च और सिनागोग कोचीन शहर में है। इनका निर्माण क्रमश: 1503 और 1568 ईस्वी में किया गया था।
  • ज्‍यू और ईसाई व्‍यक्ति भारत में क्रमश: 200 BC और 52 AD से निवास करते हैं।
  • विश्‍व में सबसे बड़ा धार्मिक भवन अंगकोरवाट, हिन्‍दु मंदिर है, जो कम्‍बोडिया में 11वीं शताब्‍दी के दौरान बनाया गया था।
  • तिरुपति शहर में बना विष्‍णु मंदिर 10वीं शताब्‍दी के दौरान बनाया गया था, यह विश्‍व का सबसे बड़ा धार्मिक गंतव्‍य है। रोम या मक्‍का धामिल स्‍थलों से भी बड़े इस स्‍थान पर प्रतिदिन औसतन 30 हजार श्रद्धालु आते हैं और लगभग 6 मिलियन अमेरिकी डॉलर प्रति दिन चढ़ावा चढता है।
  • भारत द्वारा श्रीलंका, तिब्‍बत, भूटान, अफगानिस्‍तान और बंगलादेश के 3,00,000 से अधिक शरणार्थियों को सुरक्षा दी जा रही है, जो धार्मिक और राजनैतिक अभियोजन के फलस्‍वरूप वहां से निकल गए/निकाल दिए गए हैं।
  • युद्ध कलाओं का विकास सबसे पहले भारत में किया गया और ये बौद्ध धर्म प्रचारकों द्वारा पूरे एशिया में फैलाई गई।
  • योग कला का उद्भव भारत में हुआ है और यहां 5,000 वर्ष से अधिक समय से मौजूद हैं। 
आज भारत सरकार की अधिकारिक वैबसाईट(http://bharat.gov.in) देखने का मौका मिला तो वहाँ  इस प्रकार की एक सूची दिखाई दी, तो सोचा कि आप लोगों के साथ बाँटी जाए । कम से कम इसी बहाने अपने देश के उज्जवल पक्ष से परिचित हो गर्वोंन्वित तो हुआ ही जा सकता है ।

सोमवार, 8 दिसंबर 2008

हमसा बेहया कोई नहीं !




एक दिन वह था कि हम सारे जहां में फर्द थे.

 
 
 
 
 
 
     
एक दिन यह है कि हमसा बेहया कोई नहीं
एक दिन वह था कि अपनी शान पर देते थे जान 
एक दिन यह है कि हमसा बेहया कोई नहीं

रविवार, 30 नवंबर 2008

सुना है, सरदार ने हिजड़ो की फौज बनाई है

अपन तो आज बहौत खुश हैं। आप भी खुश हो जाइए। हम सुरक्षित हैं, आप सुरक्षित हैं। अगले 3-4 महीनों के लिए हम सब को जीवनदान मिल गया है। क्योंकि आम तौर एक धमाके के बाद 3-4 महीने तो शांति रहती ही है। क्या हुआ जो 3-4 महीने बाद फिर हम करोड़ों लोगों में से 50, 100 या 200 के परिवारों पर कहर टूटेगा। बाकी तो बचे रहेंगे। दरअसल सरकार का गणित यही है। हमारे पास मरने के लिए बहुत लोग हैं। चिंता क्या है। नपुंसक सरकार की प्रजा होने का यह सही दंड है।
पूरी दुनिया में आतंकवादियों को इससे सुरक्षित ज़मीन कहां मिलेगी। सच मानिए, ये हमले अभी बंद नहीं होंगे और कभी बंद नहीं होंगे।
कयूं कि यहां आतंकवाद से निपटने की रणनीति भी अपने चुनावी समीकरण के हिसाब से तय की जाती है।
आप कल्पना कर सकते हैं110 करोड़ लोगों का भाग्यनियंता, देश का सबसे शक्तिशाली (कम से कम पद के मुताबिक,दम के मुताबिक नहीं) व्यक्ति कायरों की तरह ये कहता है कि आतंकवाद पीड़ितों को मुआवजा देने के लिए एक स्थायी कोष बना देना चाहिए।
हर आतंकवादी हमले के बाद टेलीविजन चैनलों पर दिखने वाला गृहमंत्री का निरीह, बेचारा चेहरा फिर प्रकट हुआ। शिवराज पाटिल ने कहा कि उन्हे इस आतंकवादी हमले की जानकारीपहले से थी। धन्य हो महाराज!आपकी तो चरणवंदना होनी चाहिए.
लेकिन इन सब बातों का मतलब ये भी नहीं कि आतंकवाद की सभी घटनाओं के लिए केवल मनमोहन सिंह की सरकार ही दोषी है। मेरा तो मानना है कि सच्चा दोषी समाज है, हम खुद हैं। क्योंकि हम खुद ही इन हमलों और मौतों के प्रति इतनी असंवेदनशील हो गए हैं कि हमें ये ज़्यादा समय तक विचलित नहीं करतीं। सरकारें सच पूछिए तो जनता का ही अक्श होती हैं जो सत्ता के आइने में जनता का असली चेहरा दिखाती हैं। भारत की जनता ही इतनी स्वकेन्द्रित हो गई है कि सरकार कोई भी आए, ऐसी ही होगी। हम भारतीय इतिहास का वो सबसे शर्मनाक हादसा नहीं भूल सकते ,जब स्वयं को राष्ट्रवाद का प्रतिनिधि बताने वाली बी.जे.पी. सरकार का विदेश मंत्री तीन आतंकवादियों को लेकर कंधार गया था। इस निर्लज्ज तर्क के साथ कि सरकार का दायित्व अपहरण कर लिए गए एक हवाईजहाज में बैठे लोगों को बचाना था। तो क्या उसी सरकार के विदेश मंत्री, प्रधानमंत्री और स्वयं को लौहपुरुष कहलवाने के शौकीन माननीय (?)लाल कृष्ण आडवाणी उन हर हत्याओं की ज़िम्मेदारी लेंगे, जो उन तीन छोड़े गए आतंकवादियों के संगठनों द्वारा की जा रही है।

वाह री राष्ट्रवादी पार्टी, धिक्कार है।

अब क्या कहें, सरकार चाहे अटल बिहारी वाजपेयी की हो या मनमोहन सिंह की, आतंकवाद हमारी नियति है। ये तो केवल भूमिका बन रही है, हम पर और बड़ी विपत्तियां आने वाली हैं।क्यूं कि 2020 तक महाशक्ति बनने का सपना देख रहे इस देश की हुकूमत चंद कायर और सत्तालोलुप नपुंसक कर रहे हैं।

शुक्रवार, 14 नवंबर 2008

आओ भारत को हिंदू राष्ट्र बनाये (थोड़ा व्यंग्य, थोड़ा चिंतन)

गुरु-- "चेला, हिन्दू-मुसलमान एक साथ नहीं रह सकते।"
चेला-- "क्यों गुरुदेव?"
गुरु-- "दोनों में बड़ा अन्तर है।"
चेला-- "क्या अन्तर है?"
गुरु-- "उनकी भाषा अलग है...हमारी अलग है।"
चेला-- "क्या हिन्दी, कश्मीरी, सिन्धी, गुजराती, मराठी, मलयालम, तमिल, तेलुगु, उड़िया, बंगाली आदि भाषाएँ मुसलमान नहीं बोलते...वे सिर्फ़ उर्दू बोलते हैं?"
गुरु-- "नहीं...नहीं, भाषा का अन्तर नहीं है...धर्म का अन्तर है।"
चेला-- "मतलब दो अलग-अलग धर्मों के मानने वाले एक देश में नहीं रह सकते?"
गुरु-- "हाँ...भारतवर्ष केवल हिन्दुओं का देश है।"
चेला-- "तब तो सिखों, ईसाइयों, जैनियों, बौद्धों, पारसियों, यहूदियों को इस देश से निकाल देना चाहिए।"
गुरु-- "हाँ, निकाल देना चाहिए।"
चेला-- "तब इस देश में कौन बचेगा?"
गुरु-- "केवल हिन्दू बचेंगे...और प्रेम से रहेंगे।"
चेला-- "उसी तरह जैसे पाकिस्तान में सिर्फ़ मुसलमान बचे हैं और प्रेम से रहते हैं?"
(जाने माने व्यंग्यकार श्री हरिशंकर परसाई जी के अनमोल खजाने से)

विकसित देश की पहचान

गुरु : विकसित देश की कोई पहचान बताओ बेटा !
चेला : विकसित देश विकासशील देशों को दान देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला: फिर कर्ज देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला: फिर ब्याज के साथ कर्ज देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला: और फिर ब्याज ही कर्ज देते हैं।
गुरु : और फिर?
चेला : और फिर विकसित देशों को विकसित मान लेते हैं।

गुरु : विकसित देशों की कोई ओर पहचान बताओ बेटा !
चेला: विकसित देशों में मानसिक रोगी अधकि होते हैं।
गुरु : क्यों? शारीरिक रोगी क्यों नहीं होते?
चेला : क्योंकि शरीर पर तो उन्होंने अधिकार कर लिया है मन पर कोई अधिकार नहीं हो पाया है।

गुरु : कोई और पहचान बेटा !
चेला : विकसित देशों में तलाक़ें बहुत होती हैं।
गुरु : क्यों?
चेला : क्योंकि प्रेम बहुत होते हैं।
गुरु : प्रेम विवाह के बाद तलाक़ क्यों हो जाती है?
चेला : दूसरा प्रेम करने के लिए।

गुरु : कुछ और ?
चेला : विकसित देशों में बूढ़े अलग रहते हैं।
गुरु : और जवान?
चेला : वे भी अलग रहते हैं।
गुरु : और अधेड़?
चेला : वे भी अलग रहते हैं।
गुरु : तब वहां साथ-साथ कौन रहता है?
चेला : सब अपने-अपने साथ रहते हैं।

चेला : विकसित देशों में इंसान जानवरों से बड़ा प्यार करते हैं।

गुरु : क्योंकि जानवर इंसान से बड़ा प्यार करते हैं। इसी लिए ना ?

चेला : नहीं गुरुदेव ! इस लिए की वहां इंसान को इंसान का और जानवर को जानवर का प्यार नही मिलता

गुरु :इसका मतलब बहुत जल्द अब हम भी विकासशील से विकसित देशों की कतार में खड़े होने जा रहे हैं

आइये स्वागत करें नए विकसित भारत का ...........
(श्री हरिशंकर परसाई जी)