ad

चिकित्सा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
चिकित्सा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 11 जुलाई 2010

ब्लागिंग सुधारोन्माद :)

आजकल देखने में आ रहा है कि बिल्कुल किसी महामारी की तरह से, ब्लागिंग सुधारोन्माद नाम का रोग भी बडी तेजी से फैलता जा रहा है. सच पूछिए, तो यह एक बहुत ही भयानक किस्म का रोग है, जो कि सिर्फ हिन्दी भाषी ब्लागिंग क्षेत्र में ही पाया जाता है। इस रोग से ग्रसित व्यक्ति बस हर वक्त कुछ न कुछ ऊल-जलूल सी हरकतें करता ही रहता है। इस नामुराद बीमारी के चँगुल में फँस कर बेचारा रोगी न तो घर का रहता है और न घाट का। अच्छा भला व्यक्ति बस महज कुछ दिनों में ही अर्ध-पागल की सी हालत में पहुँच जाता है। उठता-बैठता, सोता-जागता, नहाता-धोता, खाता-पीता, यहां तक कि न मालूम कैसी कैसी जगह में भी बस "गुन गुन" करता रहता है। दूसरों के चिट्ठों पर टिप्पणियों की भरमार देखकर तो रोगी को एकदम से भयंकर दौरा शुरू हो जाता है, जो लाख चिकित्सा करने पर भी शान्त नहीं होता। ब्लागिंग की दशा पर रोगी चीखता चिल्लाता है। पसन्द-नापसन्द, टिप्पणियों की कम-ज्यादा संख्या, निरर्थक लेखन,गुटबाजी इत्यादि कुछ ऎसे विषय हैं, जिन्हे देखकर तो उसे एकदम बुरी तरह से फुरफुरी सी आने लगती है। बस उसके बाद तो वो तुरन्त "ब्लाग सुधारक" की भूमिका में आ जाता है और झट से अपनी नेतागिरी की भडास मुफ्त में मिले ब्लाग पर छापकर और फिर उस पर लोगों की वाह! वाह्! देख आनन्दित हो खुशी से झूमने लगता है। इस रोग का अगर शीघ्र ही उचित इलाज न किया जाए तो फिर बहुत जल्द रोगी अर्ध-पागल से पूर्ण पागल की स्थिति में पहुँच जाता है।
अक्सर वे ही ब्लागर इस रोग के शिकार होते हैं जिनकी लेखनशक्ति का उचित विकास नहीं हो पाता. वर्तमान अनुसंधानों द्वारा यह प्रमाणित भी हो चुका है कि यह रोग आलतू फालतू प्रकृ्ति के ब्लागरों में ही पाया जाता है.
  
उपचार विधि:-ऎसे रोगी को सुबह शाम दो चार टिप्पणियाँ वाह्! वाह्! के शहद के साथ मिलाकर चटानी चाहिए। उसे नियमित रूप से "चर्चा-धारा" पिलाने से भी रोग का प्रकोप शान्त रहता है। इसके अतिरिक्त कभी कभी किसी "ब्लागर पुरूस्कार" की पुडिया देने से भी लाभ होता देखा गया है। इसके साथ में कभी कभी हफ्ते दो हफ्ते में "ब्लाग सर्वश्रेष्ठता" का काढा भी पिलाते रहें तो समझिए जल्दी लाभ मिलने लगेगा।
यदि ऊपरोक्त वर्णित उपचार के पश्चात भी रोगी की दशा में कोई सुधार नहीं होता तो जानिये कि रोग अब अन्तिम स्टेज तक पहुँच चुका है, बिना विशेष इलाज के ठीक होने वाला नहीं। तब एकमात्र हल ये है कि बिना कोई समय नष्ट किए, रोगी को किन्चित मात्रा में "जूतम-धारा" पिलाई जाए, तो बस , तुरन्त आराम हो जाएगा :-)