ad

भूख लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
भूख लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 23 नवंबर 2008

आखिर ये भूख कब मिटेगी (आईये थोडा चिन्तन करें)

ज्यादा पुराना किस्सा नही है, यही कोई दो साल की बात है ,मुझे अपने परिचित मित्र के विवाह पर आयोजित आशीर्वाद समारोह पर भोज का निमंत्रण मिला था। समय तो 9 बजे अंकित था पर मै घर से ही घंटे- डेढ़ घंटे बाद समारोह स्थल के लिए रवाना हुआ.

विद्युत का जगमगाता प्रकाश दूर से ही आकर्षित कर रहा था। प्रवेश द्वार पर चूनड़ी का साफा बांधे, बंद गले का जोधपुरी कोट पहने एक सज्जन खड़े थे। उनके पास ही खडी थी, आभूषणों में सजी धजी महिला, शायद उनकी पत्नी। जो भी आ रहा था, वह उन्हें आशीर्वाद का लिफाफा देकर भीतर प्रवेश कर रहा था। लिफाफों से उनके कोट की दोनों जेबें लबालब भरी थीं।

मैने उन्हें ही अपने मित्र का पिता समझ, अपना आशीर्वाद का लिफाफा दे दिया। लम्बी नाल से गलियारे में बिछे कालीन को जूतों से खटाखट से दबाते जैसे ही भीतर पहूंचा, मंच पर दोनों आसन खाली दिखे। सामने कुसिर्यों पर अवश्य महिलाऐं जमीं थीं। कुछ दूर आगे बगल में भोजन पर भीड़ टूटी पड़ी थी।

मुझे वहां से यथा शीघ्र निपटकर दूसरी जगह आवश्यक रूप से पहुंचना था। इसलिए मैने सीधे पहुंच भोजन किया और बाहर आ जैसे ही गाड़ी स्टार्ट की, मेरे कानों में आवाज आई, बारात आ गई - बारात आ गई। मै सोच में पड़ गया। क्या वे मित्र के पिता नहीं थे? क्या वधू पक्ष के भोजन को ही उन्होंने अपना स्वरूचि भोज मान मित्रों को वहीं आमंत्रित किया है।

मेरे माथे पर बल् पड़ गये। सोचने लगा कि कब तक होता रहेगा वधू पक्ष का इस तरह शोषण। पढ़ी लिखी लड़की देकर भी इस पुरूष- प्रधान समाज में लड़की का पिता कब तक छला जाता रहेगा। मित्र ने अपना भार दूसरे के कंधे पर डाल दिया। कैसा जमाना आ गया है। यह कहते-कहते मैने अपना माथा ठोक लिया। एक बार तो सोचा कि लौट चलूं और मित्र को इस सबके लिए उलाहना भी दूं। लेकिन द्वार पर खडा वह लड़की का पिता समझेगा कि दुबारा खाने के लिए आ गया। इसी उहापोह में मेरी गाड़ी गंतव्य की ओर बढ़ती रही। मै सोचता रहा कि, क्या कन्या भ्रूण-हत्या इसीलिए होती है? क्या इसीलिए युवा लड़किया आत्महत्या कर लेती हैं? क्या इसीलिये विधवाए अपनी बच्चियों को लेकर कुओं में कूद जीवित समाधि ले लेती हैं? कब रूकेगी लड़के वालों की यह भूख? कब मिलेगा लड़कियों को उचित सम्मान?

गाड़ी गंतव्य पर पहुंच चुकी थी। फाटक लगाते हुए मैने यह सोच कर् संतोष की सांस ली कि जिसे आशीर्वाद चाहिये था, उसे ही मैने आशीर्वाद दिया है.

बताईए आप क्या सोचते हैं ?