ad

ध्वनि प्रदूषण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ध्वनि प्रदूषण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 23 नवंबर 2009

गले का पट्टा

तकनीकी विकास के मामले में जापानियों का लोहा तो आज पूरा विश्व मान रहा है । इनके द्वारा किए जा रहे नित नये आविष्कार देखने सुनने को मिल ही जाते हैं । कभी कभी तो इनके आविष्कार इतने अजीबोगरीब होते हैं कि देख सुनकर हँसी भी आती है ओर इनकी कल्पनाशीलता, खोजी दिमाग की दाद भी देनी पडती है ।
 कुछ दिन पहले हमने कहीं पढा था कि जापान में आदमी तो आदमी कुत्तों के भौंकने पर भी प्रतिबंध लग चुका है । इसके लिए उन्होने एक विशेष प्रकार के पट्टे का आविष्कार किया है जो कि कुत्ते को पहना दिया जाए तो जब भी वो भौंकने के लिए मुँह खोले तो पट्टे में लगा यन्त्र बिजली का एक जोरदार झटका मारता है, बेचारा कुता घबराहट में भौंकना भूलकर तुरन्त अपना मुँह वापिस बन्द कर लेता है । क्या कमाल की चीज इजाद की है भई इन जापानियों नें । मेरा तो यह मानना है कि इन पट्टों की जापान से ज्यादा जरूरत तो यहाँ भारत में हैं । ससुरे जितने भी ये सडकछाप नेता हैं, जो कि समय असमय, मतलब बिना मतलब के लाऊडस्पीकर पर बोलते हुए ऊबते नहीं, या फिर मन्दिरों के पंडित, मस्जिदों के मौलवी, गुरूद्वारों में बैठे वो पाठी जो सुबह सुबह ऊपर वाले के कान के पर्दे खोलने के चक्कर में लोगों को बहरा बनाने पर तुले हुए हैं । जिन्हे न तो ये फिर्क कि बच्चों की परीक्षाएं चल रही हैं या कि इनके शोर से किसी बीमार अस्वस्थ आदमी पर क्या बीतती होगी । बस ये लोग तो ऊपर वाले को बहरा मानकर दिन रात बस उसके कान के पर्दे खोलने में लगे हुए हैं । मैं तो कहता हूँ कि भारत सरकार को जापान से ये पट्टे आयात कर ही लेने चाहिएं और जिस प्रकार से घर घर जाकर बच्चों को 2 बून्द पिलाने का पोलियो उन्मूलन अभियान चलाया जा रहा है, ठीक वैसे ही एक पट्टा अभियान चलाए और चुन चुनकर इन सभी भौंकूओं के गले में पट्टा बाँध दिया जाए । इससे एक तो इनका भौंकना बन्द हो जाएगा ओर दूसरे हम लोग भी कुछ चैन की साँस ले पाएंगें।

वैसे जो लोग बेचारे अपनी बीवी की चपर-चपर से कुछ ज्यादा ही दुखी हैं, उनके लिए भी ये बडे काम की चीज हो सकती है :)